पल्मोनरी हाइपरटेंशन                           



पल्मोनरी हाइपरटेंशन (पीएच) आपके फेफड़ों में जाने वाली धमनियों में उच्च रक्तचाप होता है। यह एक गम्भीर स्थिति है। यदि आप इससे ग्रसित हैं तो आपके हृदय की ओर रक्त ले जाने वाली नसें सख्त और पतली हो सकती हैं। आपके रक्त को पंप करने के लिए हृदय को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। समय के साथ, आपका हृदय कमजोर होता है और यह काम नहीं कर सकता है और जिससे आपको हृद्पात हो सकता है।


पीएच के लक्षणों में शामिल हैं


दैनिक गतिविधि के दौरान हांफना, जैसे दो सीढ़ी चढ़ने पर सांस कम होनाथकानसीने में दर्दधड़कन तेज होनापेट के ऊपरी दाएं भाग में दर्दभूख कम होना


जैसे-जैसे पीएच गंभीर होता है, आपको कोई भी शारीरिक गतिविधि करने में कठिनाई होने लगती है।


पीएच के दो मुख्य प्रकार हैं। एक आनुवंशिक है या बिना किसी कारण के होता है। दूसरा प्रकार एक अन्य स्थिति से संबंधित है, आमतौर पर हृदय या फेफड़ा रोग से।


SONA DENTAL (mithapur)

Dr.N.Krishnan